‘क्वीन’ से ज्यादा अमीर हैं ये भारतीय महिला, पति हैं ब्रिटेन के वित्त मंत्री

[ad_1]

Akshata Murthy Net Worth: भारत की एक महिला ब्रिटेन की महारानी से ज्यादा अमीर है. इस महिला के पास भारत की प्रमुख आईटी कंपनी Infosys की 0.9 फीसदी हिस्सेदारी है.

संकट में घिरे ब्रिटेन के फाइनेंस मिनिस्टर ऋषि सुनक (Rishi Sunak) की भारतीय मूल की पत्नी अक्षता मूर्ति (Akshata Murthy) ब्रिटेन की महारानी से भी ज्यादा अमीर हैं. न्यूज एजेंसी एएफपी की एक रिपोर्ट में ये कहा गया है. अक्षता मूर्ति भारत की प्रमुख आईटी सर्विसेज कंपनी Infosys के को-फाउंडर एन. आर. नारायण मूर्ति (N. R. Narayana Murthy) की बेटी हैं. रूस-यूक्रेन युद्ध (Russia-Ukraine War) के बीच Infosys में हिस्सेदारी की वजह से अक्षता मूर्ति और उनके पति चर्चा में हैं.

इतनी है अक्षता मूर्ति की नेटवर्थ (Akshata Murthy Net Worth)

रिपोर्ट के मुताबिक, अक्षता के पास Infosys की 0.90 फीसदी हिस्सेदारी है. इसका मूल्य 43 करोड़ डॉलर है. इसके अलावा उन्हें करीब 1.15 करोड़ पाउंड का सालाना डिविडेंड भी मिलता है. इस तरह 42 वर्षीय अक्षता मूर्ति के पास करीब 69 करोड़ पाउंड (6,834 करोड़ रुपये से ज्यादा) की कुल संपत्ति है. वहीं, ‘2021 Sunday Times Rich List’ के अनुसार, ब्रिटेन की महारानी के पास करीब 35 करोड़ पाउंड की निजी संपत्ति है.   

सुनक दंपति के पास 70 लाख पाउंड के पांच बेडरूम के घर सहित लंदन में कम-से-कम चार प्रोपर्टीज हैं. उनके पास कैलिफोर्नियो में एक फ्लैट भी है. अक्षता वेंचर कैपिटल कंपनी Catamaran Ventures की डायरेक्टर भी हैं. उन्होंने 2013 में सुनक के साथ मिलकर इस कंपनी की शुरुआत की थी. 
  

इस वजह से परेशानी में हैं सुनक

सुनक को एक वक्त में ब्रिटेन के भविष्य के प्रधानमंत्री के तौर पर देखा जा रहा था. हालांकि, ब्रिटेन में बढ़ती महंगाई और अक्षता की भारतीय कंपनी में हिस्सेदारी को लेकर पैदा हुए विवाद की वजह से सुनक की लोकप्रियता का ग्राफ नीचे आया है.

इस तरह हुई थी Infosys की शुरुआत

अक्षता मूर्ति के पिता एन. आर. नारायण मूर्ति (75) ने 1981 में अपने अन्य सहयोगियों के साथ मिलकर Infosys की स्थापना की थी. इस प्रमुख कंपनी ने भारत की पूरी आईटी सर्विसेज इंडस्ट्री में बड़ा चेंज लाने का काम किया. मूर्ति ने अपनी पत्नी से 10 हजार रुपये उधार लेकर इस कंपनी की स्थापना की थी. इस कंपनी का वैल्यू अब 100 बिलियन डॉलर के आसपास है और यह वॉल स्ट्रीट पर लिस्ट होने वाली पहली भारतीय कंपनी बनी.

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Prachand.in. Publisher: Aajtak News

[ad_2]

Source link

Leave a Comment