3 साल की एफडी में जितना ब्याज कमा पाए थे, उससे ज्यादा तो महंगाई खा गई

[ad_1]



RBI ने शुक्रवार को द्विमासिक मौद्रिक नीति की घोषणा करते हुए रेपो रेट 4% व रिवर्स रेपो रेट 3.5% पर ही स्थिर रखने का फैसला किया है। आखिरी बार 22 मई 2020 को दरों में बदलाव हुआ था। RBI ने चालू वित्त वर्ष में महंगाई दर 5.7% व जीडीपी ग्रोथ रेट 7.2%…

3 साल की एफडी में जितना ब्याज कमा पाए थे, उससे ज्यादा तो महंगाई खा गई

RBI ने शुक्रवार को द्विमासिक मौद्रिक नीति की घोषणा करते हुए रेपो रेट 4% व रिवर्स रेपो रेट 3.5% पर ही स्थिर रखने का फैसला किया है। आखिरी बार 22 मई 2020 को दरों में बदलाव हुआ था। RBI ने चालू वित्त वर्ष में महंगाई दर 5.7% व जीडीपी ग्रोथ रेट 7.2% रहने का अनुमान जताया है। आंकड़े बताते हैं कि तीन साल में महंगाई दर (2019 में 4.7%, 2020 में 6.1% और 2021 में 5.5%) 16.5% बढ़ी है, जबकि एफडी पर ब्याज (2019 में 6.4%, 2020 में 5.5%, 2021 में 4.4%) 16.3% मिला यानी घाटा हुआ है।

Portion

  • दुनिया की शीर्ष 5 अर्थव्यवस्थाओं में जापान में होम लोन पर ब्याज दर सबसे कम और भारत में सबसे ज्यादा है।
  • डेनमार्क में कर्ज पर ब्याज सबसे कम -0.45%, नीदरलैंड्स में 0.35% और पेरू में 0.59% है।
  • 193 देशों में कर्ज पर सर्वाधिक ब्याज वसूलने में भारत 37वें नंबर पर है। यहां होम लोन पर ब्याज 6.65% है।

Portion

  • अमेरिका में महंगाई दर 7.87%, चीन व जापान में 0.9%, जर्मनी में 5.1% और भारत में 6.07%।
  • सबसे ज्यादा महंगाई दर के आंकड़े देखें तो 193 में से 140 देशों में भारत के मुकाबले कम महंगाई दर है।
  • वेनेजुएला में महंगाई दर दुनिया में सबसे ज्यादा 1198% है। 340% के साथ सूडान दूसरे पर है।

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Prachand.in. Publisher: Bhaskar News

[ad_2]

Source link

Leave a Comment