8 दिन में इन्वेस्टर्स के डूबे 26 लाख करोड़ रुपये, इन कंपनियों की हालत खराब

[ad_1]

गुरुवार को सेंसेक्स 1,158.08 अंक (2.14 फीसदी) के नुकसान के साथ 52,930.31 अंक पर बंद हुआ था. इसी तरह एनएसई निफ्टी 359.10 अंक (2.22 फीसदी) के नुकसान के साथ 15,808 अंक पर बंद हुआ था. बीते 1 महीने में सेंसेक्स 5,500 अंक टूट चुका है. निफ्टी भी बीते…

दुनिया भर के शेयर बाजारों में (Share Market) पिछले कुछ दिनों से चौतरफा बिकवाली (Sell Off) का दौर चल रहा है. इसका असर भारतीय शेयर बाजार (Indian Share Market) के ऊपर भी हो रहा है. घरेलू बाजार पिछले 8 सेशन से हर रोज गिर रहे हैं. इस भारी बिकवाली के कारण बीते 8 दिनों में इन्वेस्टर्स (Investors) ने शेयर मार्केट में करीब 26 लाख करोड़ रुपये गंवा दिए हैं.

कल भी आई भारी गिरावट

पिछले साल शेयर बाजारों में जबरदस्त रैली देखने को मिली थी. हालांकि बीते कुछ महीनों से दुनिया भर के शेयर बाजार करेक्शन की चपेट में हैं. दशकों के हाई लेवल पर पहुंची महंगाई (Inflation) के कारण सेंट्रल बैंक्स (Central Banks) ब्याज दरें बढ़ा रहे हैं. इससे इन्वेस्टर्स का डर बढ़ रहा है. कोरोना महामारी की नई लहर की आशंका भी इन्वेस्टर्स की नींदें खराब कर रही हैं. कल यानी गुरुवार को बीएसई सेंसेक्स (BSE Sensex) और एनएसई निफ्टी (NSE Nifty) दोनों 2-2 फीसदी से ज्यादा टूट गए थे. इस कारण इन्वेस्टर्स ने एक ही दिन में 5 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा गंवा दिए थे.

एक महीने में इतना गिरा बाजार

कल के कारोबार में सेंसेक्स की 30 कंपनियों में से महज 2 विप्रो (Wipro) और एचसीएल टेक (HCL Tech) ही ग्रीन जोन में रह पाईं. कारोबार के दौरान सेंसेक्स एक समय करीब 1,400 अंक तक गिर गया था. कारोबार समाप्त होने के बाद सेंसेक्स 1,158.08 अंक (2.14 फीसदी) के नुकसान के साथ 52,930.31 अंक पर बंद हुआ था. इसी तरह एनएसई निफ्टी 359.10 अंक (2.22 फीसदी) के नुकसान के साथ 15,808 अंक पर बंद हुआ था. बीते 1 महीने में सेंसेक्स 5,500 अंक टूट चुका है. निफ्टी भी बीते एक महीने में करीब 10 फीसदी गिरा है. आज शुक्रवार को भी बाजार में गिरावट रहने की आशंका है.

इतना कम हो गया कंपनियों का एमकैप

लगातार आ रही गिरावट के चलते बीएसई पर लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैप (Market Cap) गिरकर 12 मई को 241.13 लाख करोड़ रुपये रह गया. यह 29 अप्रैल को 266.97 करोड़ रुपये के लेवल पर था. इस तरह महज आठ दिनों में शेयर मार्केट के इन्वेस्टर्स को करीब 26 लाख करोड़ रुपये का नुकसान हो गया. शेयर मार्केट से एफपीआई (FPI) की लगातार बिकवाली, क्रूड ऑयल की अधिक कीमतें, रूस व यूक्रेन के बीच जारी जंग और भारत में भी बढ़ती महंगाई इन्वेस्टर्स की चिंता बढ़ा रही है. इन कारणों से इन्वेस्टर्स सुरक्षित निवेश के साधन खोज रहे हैं.

सिर्फ एक दिन आई मामूली तेजी

बीते आठ कारोबारी दिनों में एफपीआई भारतीय बाजार से 23,665 करोड़ रुपये निकाल चुके हैं. इससे पहले अप्रैल में फॉरेन इन्वेस्टर्स ने 40,652 करोड़ रुपये निकाले थे. इस महीने सेंसेक्स अब तक 4,130 अंक गिर चुका है. इस दौरान निफ्टी 1,294 अंक गिरा है. इस महीने सिर्फ एक दिन 05 मई को बाजार मामूली बढ़त में रहा है. उस दिन के कारोबार में सेंसेक्स 33.20 अंक और निफ्टी 5.05 अंक मजबूत हुआ था. इसके अलावा बाकी सभी सेशंस में दोनों मेजर इंडेक्स नुकसान में रहे हैं.

 

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Prachand.in. Publisher: Aajtak News

[ad_2]

Source link

Leave a Comment