Dollar Get’s Stronger Than Rupee Know Who Will Benefit From Strong Dollar In India

[ad_1]

Benefits From Strong Dollar: रुपये के कमजोर होने और डॉलर की मजबूती से देश में महंगाई बढ़ती है. लेकिन क्या आप जानते हैं डॉलर के मुकाबले रुपये में कमजोरी के फायदे भी हैं . सोमवार को रुपये के मुकाबले डॉलर में जबरदस्त तेजी देखने को मिली. एक डॉलर के मुकाबले रुपया कमजोर होकर 77.41 तक जा लुढ़का. लेकिन डॉलर की मजबूती से देश के आईटी सेक्टर्स को जबरदस्त फायदा पहुंचा है. तो विदेशी में जो भारतीय रोजगार के लिए गए हुए हैं जब वे Remittance अपने देश भेजते हैं तो उन्हें यहां ज्यादा रिटर्न मिलता है. 

आइए डालते हैं नजर मजबूत डॉलर का किस प्रकार अर्थव्यवस्ता को पहुंचता है फायदा

1. Remittance पर ज्यादा रिटर्न – यूरोप या खाड़ी के देशों में बड़ी संख्या में भारतीय काम करते हैं. अमेरिका में बड़ी संख्या में भारतीय रहते हैं जो डॉलर में कमाते हैं और अपनी कमाई देश में भेजते हैं. दुनिया में सबसे ज्यादा Remittance पाने वाला देश भारत है. साल 2021 में भारत में Remittance के जरिए 87 अरब डॉलर प्राप्त हुआ था. जो 2022 में बढ़कर 90 बिलियन होने का अनुमान है. 20 फीसदी से ज्यादा Remittance भारत में अमेरिका से आता है. ये Remittance जब भारतीय अपने देश डॉलर के रुप में भेजते हैं तो विदेशी मुद्रा भंडार इससे तो बढ़ता ही है साथ ही इन पैसे से सरकार को अपने कल्याणकारी योजनाओं को चलाने के लिए धन प्राप्त होता है. और जो लोग Remittance भेजते हैं उन्हें अपने देश में डॉलर को अपने देश की करेंसी में एक्सचेंज करने पर ज्यादा रिटर्न मिलता है. 

2. आईटी इंडस्ट्री – डॉलर में मजबूती का बड़ा फायदा देश के आईटी सर्विसेज इंडस्ट्री को होता है. भारत की दिग्गज आईटी कंपनियां टीसीएस, इंफोसिस, विप्रो, टेक महिंद्रा, एचसीएल जैसेी कंपनियां की सबसे ज्यादा कमाई विदेशों में आईटी सर्विसेज देने से प्राप्त होती है. इन कंपनियों को डॉलर में भुगतान किया जाता है. जब ये देसी आईटी कंपनी डॉलर में कमाई अपने देश लेकर आते हैं तो रुपये में कमजोरी और डॉलर में मजबूती से उन्हें जबरदस्त फायदा मिलता है.  तो डॉलर की मजबूती से इन कंपनियों की विदेशों में सर्विसेज देने से आय भी बढ़ जाती है. 

3. निर्यातकों को फायदा – डॉलर में मजबूती का बड़ा फायदा एक्सपोटर्स को होता है. निर्यातक जब कोई प्रोडक्ट दूसरे देशों में बेचते हैं तो उन्हें भुगतान डॉलर के रुप में किया जाता है. डॉलर की मजबूती का मतलब है कि उन्हें अपने प्रोडक्ट के लिए ज्यादा कीमतें मिलेंगी. और वे डॉलर को देश के एक्सचेंज मार्केट में बेंचेंगे तो रुपये में कमजोरी के चलते उन्हें एक डॉलर के मुकाबले ज्यादा रुपये प्राप्त होंगे. 

4. ज्यादा आयेंगे विदेशी सैलानी – महंगे डॉलर के चलते विदेशों में घूमना भले ही महंगा हो जाये. लेकिन जो विदेशी सौलानी भारत आना चाहते हैं उनके लिए राहत है. उन्हें रुपये में कमजोरी के चलते ज्यादा सर्विसेज प्राप्त होगा. रुपये में कमजोरी के चलते टूर पैकेज सस्ते हो जायेंगे. देश में स्ते टूर पैकेज के चलते विदेशी सैलानी ज्यादा आयेंगे. 

यह भी पढ़ें:
Wheat Price Hike: बड़ा झटका! अगले महीने से महंगा हो जाएगा आटा, बिस्किट और ब्रेड, जानें कितने बढ़ेंगे रेट्स?

Share Market में गिरावट हावी, सेंसेक्स-निफ्टी लाल निशान में बंद, रिलायंस के शेयर्स सबसे ज्यादा फिसले

[ad_2]

Source link

Leave a Comment