Elon Musk Tesla: टैक्स छूट नहीं मिलने के बाद भारत में इलेक्ट्रिक गाड़ियां बेचने के प्लान को Tesla ने डाला होल्ड पर

[ad_1]

Elon Musk: सरकार ने पूर्व में साफ कर दिया था कि वो टेस्ला को रिआयत देने के मूड में नहीं है.  सरकार ने कहा था कि ऐसा नहीं हो सकता है कि बाजार भारत में हो लेकिन नौकरी के अवसर चीन में पदा हो.

Elon Musk Update: एलन मस्क (Elon Musk) की इलेक्ट्रिक कार ( Electric Vehicle) बनाने वाली कंपनी टेस्ला ( Tesla) ने भारत में इलेक्ट्रिक कार ( Electric Cars) बेचने की योजना को फिलहाल होल्ड पर डाल दिया है. कंपनी ने शोरुम खोजने को प्लान को ठंडे बस्ते में डाल दिया है. दरअसल टेस्ला केंद्र सरकार भारत में प्रोडक्शन करने से पहले अमेरिका और चीन से  इंपोर्टेड इलेक्ट्रिक व्हीकल पर इंपोर्ट ड्यूटी ( Import Duty) घटाने की मांग कर रही थी. जिसे सरकार ने मानने से इंकार कर दिया था. 

इलेक्ट्रिक कार मैन्युफैकचरिंग भारत में करे टेस्ला  
भारत सरकार ने टेस्ला को साफतौर पर कहा था कि सबसे पहले वो देश में इलेक्ट्रिक गाड़ियों की पहले मैन्युफैकचरिंग शुरू करे फिर सरकार टैक्स घटाने के बारे में विचार करेगी. आपको बता दें इंपोर्टेड इलेक्ट्रिक व्हीकल पर 100 फीसदी तक टैक्स देना होता है जिसे टेस्ला सरकार से घटाने की मांग करती रही. 

भारत का नुकसान, इंडोनेशिया का फायदा!
हालांकि ये भी माना जा रहा है कि एलन मस्क भारत में मैन्युफैकचरिंग प्लांग लगाने की बजाये इंडोनेशिया ( Indonesia)में टेस्ला कार का प्लांट लगा सकते हैं. एलन मस्क इंडोनेशिया के प्रेसीडेंट जोको विडोडो (Joko Widodo) से मुलाकात करने वाले हैं. उनसे एलन मस्क अपने इलेक्ट्रिक व्हीकल की बैट्री सप्लाई के लिए निकल इंडस्ट्री को डेवलप करने पर चर्चा करेंगे. 

नितिन गड़करी ने दिया था न्योता 
इससे पहले अप्रैल महीने में सड़क परिहन मंत्री नितिन गडकरी ( Nitin Gadkari) ने टेस्ला के सीईओ एलन मस्क को भारत में इलेक्ट्रिक गाड़ियां मैन्युफैकचरिंग करने का न्योता दिया था. Raisina Dialogue 2022 में बोलते हुए गडकरी ने कहा कि मेरी एलन मस्क को सलाह होगी कि भारत में उन्हें अच्छा बाजार मिलेगा. भारतीय बाजार बहुत बड़ा है. इसलिए यह दोनों के लिए फायदे की स्थिति है. उन्होंने कहा कि अगर वे भारत में मैन्युफैकचरिंग करते हैं जो उन्हें भारत में बचत भी होगी और अच्छा मुनाफा भी होगी. इसलिए मैं उनसे अनुरोध करता हूं कि वे भारत आएं और मैन्युफैकचरिंग शुरू करें. 

टैक्स छूट देने के मूड में नहीं सरकार 
सरकार ने पूर्व में साफ कर दिया था कि वो टेस्ला को रिआयत देने के मूड में नहीं है.  सरकार ने कहा था कि ऐसा नहीं हो सकता है कि बाजार भारत में हो लेकिन नौकरी के अवसर चीन में पदा हो. भारी उद्योग मंत्रालय में राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने संसद में कहा था कि मोदी सरकार में ये नहीं हो सकता कि रोजगार चीन को और बाजार भारत की. मोदी सरकार की नीति है कि मार्केट भारत की है तो रोजगार भी भारत के लोगों को मिले. दरअसल टेस्ला भारत में इलेक्ट्रिक व्हीकल मैन्युफैकचरिंग करने के लिए टैक्स छूट की मांग करती आई है. 

 

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Prachand.in. Publisher: ABP News

[ad_2]

Source link

Leave a Comment