How To Save And Invest During High Inflation And How To Reduce Home Loan EMI

[ad_1]

How To Save During High Inflation: महंगाई (Inflation) की मार से लोग त्रस्त हैं. बीते कुछ महीनों में पेट्रोल (Petrol) डीजल (Diesel) सीएनजी (CNG) महंगा हुआ है तो रसोई गैस ( LPG)और पीएनजी ( PNG) जिनके जरिए खाना पकाया जाता है वो भी महंगा हुआ है. इतना ही नहीं खाने के सामान जैसे, खाने के तेल( EDible Oil) से लेकर, चावल, चीनी, आटा, चाय पत्ती महंगी हुई है. तो दूध के अलावा जरुरी साबुन शैम्पू, डिटर्जेंट महंगा हुआ जिसके चलते लोगों के घर का बजट बिगड़ गया है. 

महंगाई की चौतरफा मार
इतना ही नहीं स्कूल की फीस से लेकर, हवाई सफर, कैब की सवारी और रेस्ट्रां में खाने जाना भी महंगा हुआ क्योंकि महंगाई की मार से रेस्ट्रां भई परेशान है तो उन्होंने ग्राहकों पर इसका भार डाल दिया है. और अब तो बैंक से कर्ज लेने वालों की ईएमआई भी महंगी हो गई है और भविष्य में और होने वाली है. आम लोगों की मुश्किल ये है कि आमदनी नहीं बढ़ रही लेकिन महंगाई के चलते उनका खर्च बढ़ रहा है. ऐसे में सवाल उठता है कि इसकी भरपाई कैसे हो. कैसे अपनी गाढ़ी कमाई को महंगाई की नजर से बचाया जाये. 

महंगाई के दौर में करें निवेश बचत की समीक्षा
महंगाई जब भी आती है तो सबसे जरुरी है कि आप अपने निवेश और बचत के तरीके की समीक्षा करें. तो बैंक जब कर्ज महंगा कर रहे हैं ऐसे में कर्ज लेकर घर, कार या दूसरे कंज्यूमर ड्यूरेबल्स खरीदना महंगा हो जाएगा. ऐसे में कर्ज लेने की योजना है तो उसकी भई समीक्षा जरुरी है. ब्याज दरें जब महंगी हो रही है तो बैंक में डिपॉजिट्स, एफडी और अकाउंट में रखे रकम पर भी ब्याज ज्यादा मिलेगा तो राहत लेकर आएगी. 

लेकिन जब महंगाई बढ़ रही हो और साथ में कर्ज भी महंगा हो रहा हो तो खर्च में कटौती करना बेहद जरुरी हो जाता है. 

कैसे कर सकते हैं महंगाई के दौर में बचत
क्योंकि कर्ज के महंगा होने का साथ बचत पर भी ब्याज दरें बढ़ रहीं है तो ऐसे में घर से रखे नगद पर आप ज्यादा ब्याज हासिल कर सकते हैं.  घर में रखे नगद जिसकी एक साल में जरुरत नहीं है उसे आप अपने बैंक खाते में रख सकते हैं जिस पर 3 से 4 फीसदी तक आपको ब्याज मिल सकता है. इससे कर्ज महंगा होने पर जो ईएमआई महंगी होगी उस अतिरिक्त भार को ज्यादा ब्याज कमाकर आप भरपाई कर सकते हैं. 

होमलोन के ब्याज दर की करें समीक्षा
ब्याज दरों के महंगा होने के चलते होम लोन भी महंगा होगा, लोगों को ज्यादा ईएमआई चुकाना होगा. ऐसे में आप अपने बैंक या हाउसिंग फाइनैंस कंपनी के पास जाकर पता कर सकते हैं कि आप जो मौजूदा ब्याज दर चुका रहे हैं उससे कम ब्याज दर की सुविधा आप कैसे ले सकते हैं. 5,000 से 6,000 रुपये की कनर्वजन फीस देकर आप होम लोन पर ब्याज दर घटा सकते हैं जिससे महंगी ईएमआई के भुगतान करने से आप बच जायेंगे. 

ये भी पढ़ें-

Indian Railway: ‘श्री रामायण यात्रा’ ट्रेन के जरिए करें दो देशों का सफर, जानें यात्रा के सभी डिटेल्स

SBI News: स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की बॉन्ड से दो अरब डॉलर जुटाने की योजना, 10 मई को होगा विचार

[ad_2]

Source link

Leave a Comment