Jet Airways 2.0: अगले महीने से फिर से उड़ान भर सकते हैं जेट एयरवेज के विमान, सुरक्षा क्लीयरेंस के बाद हुआ रास्ता साफ

[ad_1]

Jet Airways 2.0: लंबे समय से जिस एयरलाइन के विमान जमीन पर थे एक बार फिर से अगले महीने से वो आसमान में उड़ान भरते नजर आ सकते हैं. कंपनी की तरफ से डीजीसीए को उड़ान का प्रदर्शन करके दिखाया गया है.

Jet Airways 2.0: अगले महीने से जेट एयरवेज के विमान फिर से उड़ान भर सकते हैं. कंपनी के विमान लंबे समय से जमीन पर ही थे. कंपनी के पूर्व मालिक नरेश गोयल के दौर में वो दीवालिया हो गई और उसकी उड़ानों को शेड्यूल से बाहर कर दिया गया.

नए मालिक के साथ उड़ान

साल 2019 में दिवालिया होने के बाद अब एक बार फिर विमानन कंपनी जेट एयरवेज अपने नए मालिक के साथ उड़ान सेवाएं देने के लिए एकदम तैयार है. गृह मंत्रालय से सुरक्षा क्लीयरेंस मिलने के बाद उम्मीद जताई जा रही है कि अगले महीने कंपनी अपनी सेवाएं शुरू कर देगी.

गृह मंत्रालय की ओर से बताया गया कि एयरलाइन को पिछले हफ्ते ही सुरक्षा क्लीयरेंस दे दिया गया है, ऐसे में अब कंपनी फिर से सेवाएं शुरू कर सकती है. जेट एयरवेज के विमान एक बार फिर उड़ान भरने के लिए पूरी तरह तैयार दिखाई दे रहे हैं और योजना के अनुसार, अगले महीने एयरलाइन अपनी सेवाएं फिर से शुरू कर देगी.

तीन साल बाद भरेगी उड़ान

गौरतलब है कि बीते पांच मई को जेट एयरवेज ने हैदराबाद से दिल्ली के लिए टेस्ट उड़ान भरी थी. यहां बता दें कि ये उड़ान पूरे 3 साल बाद भरी गई थी, क्योंकि 2019 में कंपनी दिवालिया होने के चलते सेवाएं बंद कर दी गईं थीं. आधिकारिक दस्तावेज के मुताबिक, जेट एयरवेज के मौजूद प्रमोटर जालान-कोलरॉक संघ है.

पहले इसके मालिक नरेश गोयल थे. जेट एयरवेज के विमान ने 17 अप्रैल 2019 को अपनी अंतिम उड़ान भरी थी.

नए नेतृत्व में उड़ान की तैयारी

बता दें कि मुरारी लाल जालान और कालरॉक कंसोर्टियम ने जून 2021 में नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (NCLT) की निगरानी में हुई दिवाला और समाधान प्रक्रिया में जेट एयरवेज की बोली जीती थी. अब इसे सुरक्षा मंजूरी मिलने के बाद कंपनी नए मालिक के साथ फिर से विमानन सेवाएं शुरू होने जा रही हैं. यानी अगले महीने से यात्री इस एयरलाइन के विमानों में यात्रा कर सकते हैं.

 

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Prachand.in. Publisher: ABP News

[ad_2]

Source link

Leave a Comment