Rakesh Biyani Resigns: फ्यूचर रिटेल के मैनेजिंग डायरेक्टर राकेश बियानी ने अपने पद से इस्तीफा दिया 

[ad_1]

Rakesh Biyani Resigns: राकेश बियानी को 2 मई 2019 से तीन साल की अवधि के लिए प्रबंध निदेशक के रूप में फिर से नियुक्त किया गया था. एमडी के रूप में उनका कार्यकाल 1 मई, 2022 को पूरा हो गया जो बढ़ा नहीं है.

Rakesh Biyani Resigns: फ्यूचर रिटेल के प्रबंध निदेशक राकेश बियानी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. ऋणदाताओं द्वारा दिवाला कार्यवाही में घसीटे जाने के बाद ये खबर सामने आई है. कंपनी सचिव और अनुपालन अधिकारी, वीरेंद्र समानी ने भी कंपनी के स्वतंत्र निदेशक गगन सिंह के साथ अपने पदों से इस्तीफा दे दिया है.

राकेश बियानी ने नहीं की पुनर्नियुक्ति की मांग
फ्यूचर रिटेल ने स्टॉक एक्सचेंजों को एक बयान में कहा कि राकेश बियानी को 2 मई 2019 से प्रभावी तीन साल की अवधि के लिए प्रबंध निदेशक के रूप में फिर से नियुक्त किया गया था. एमडी के रूप में उनका कार्यकाल 1 मई, 2022 को पूरा हो गया. चूंकि उन्होंने पुनर्नियुक्ति की मांग नहीं की है, इसलिए कंपनी के एमडी के रूप में उनकी नियुक्ति  2 मई, 2022 से प्रभावी होना बंद हो गई. नतीजतन वह बोर्ड की विभिन्न समितियों के सदस्य भी नहीं रह गए, जहां वह सदस्य थे. इस अवधि से पहले, राकेश बियानी 2005 से फ्यूचर रिटेल के जॉइंट एमडी थे. वह फ्यूचर ग्रुप की कई कंपनियों के बोर्ड में भी हैं.

वीरेंद्र समानी का भी फ्यूचर रिटेल के साथ लंबा कार्यकाल रहा
वीरेंद्र समानी का भी फ्यूचर रिटेल के साथ लंबा कार्यकाल रहा है. उन्होंने कंपनी के साथ 14 साल से अधिक समय तक काम किया. उनके लिंक्डइन प्रोफाइल के अनुसार, वह कंपनी के कंपनी सचिव होने के अलावा फ्यूचर रिटेल के लिए मुख्य कानूनी अधिकारी भी थे. उनके पास कानूनी, सचिवीय और अनुपालन क्षेत्रों में 20 से अधिक वर्षों का अनुभव है और साथ ही सिंगापुर स्टॉक एक्सचेंज में अंतरराष्ट्रीय एक्सपोजर और लिस्टिंग है. अतीत में वह दामास ज्वैलरी, जेएसडब्ल्यू ग्रुप, आदित्य बिड़ला ग्रुप और लॉकहीड मार्टिन कॉरपोरेशन, यूएसए से जुड़े थे. 

गगन सिंह ने भी छोड़ा पद
वहीं गगन सिंह के पास 35 से अधिक वर्षों का अनुभव है. उनकी पारी की समाप्ति के बारे में जानकारी देते हुए, फ्यूचर रिटेल ने कहा कि गगन सिंह, जिन्हें 30 अप्रैल, 2021 से प्रभावी एक (1) वर्ष की अवधि के लिए एक स्वतंत्र निदेशक के रूप में फिर से नियुक्त किया गया था, अब 29 अप्रैल, 2022 को अपना कार्यकाल पूरा होने पर एक स्वतंत्र निदेशक नहीं रहे. नतीजतन, वह कंपनी की ऑडिट कमेटी, नॉमिनेशन एंड पारिश्रमिक कमेटी और डील स्ट्रैटेजी कमेटी की सदस्य भी नहीं रहे. फ्यूचर रिटेल के अलावा, वह Timex Group के बोर्ड में भी हैं. वह अनुज पुरी की एनारॉक प्रॉपर्टी सर्विसेज की सलाहकार भी हैं.

फ्यूचर रिटेल से हाल ही में अन्य इस्तीफे भी हुए
फ्यूचर रिटेल से हाल ही में अन्य इस्तीफे भी हुए हैं. फ्यूचर रिटेल के सीईओ सदाशिव नायक ने भी उनकी नियुक्ति के महज सात महीने बाद अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. नायक का फ्यूचर ग्रुप के साथ लंबा कार्यकाल रहा है. वह 18 साल पहले कंपनी में शामिल हुए थे. फ्यूचर रिटेल के सीईओ बनने से पहले वे बिग बाजार के सीईओ थे.

अमेजन-फ्यूचर रिटेल के बीच कानूनी विवाद जारी
फ्यूचर रिटेल को बैंक ऑफ इंडिया द्वारा बकाया राशि को लेकर दिवाला अदालत में घसीटा गया है. इसके कर्जदाताओं ने हाल ही में रिलायंस को 24,713 करोड़ रुपये से अधिक की संभावित संपत्ति की बिक्री को अस्वीकार कर दिया था. इस सौदे का अमेज़ॅन ने भी विरोध किया था, जिसने 2019 में फ्यूचर रिटेल की एक सहयोगी कंपनी में निवेश किया था. कंपनियां बहु-न्यायिक झगड़े में उलझी हुई हैं.

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Prachand.in. Publisher: ABP News

[ad_2]

Source link

Leave a Comment