RBI Asks Banks And ATM Operators To Offer Interoperable Card-less Cash Withdrawal Facility From Their ATM

[ad_1]

Cardless Cash Withdrawal: जल्द ही आप बिना एटीएम-डेबिट कार्ड के कैश विड्रॉल कर सकते हैं. भारतीय रिजर्व बैंक ने गुरुवार को सभी बैंकों और एटीएम ऑपरेटरों को अपने एटीएम मशीनों पर इंटरऑपरेबल कार्डलेस कैश विड्रॉल (Interoperable Card-less Cash Withdrawal) की सुविधा ऑफर करने के निर्देश जारी किए हैं. आरबीआई के मुताबिक कैशलेस ट्रांजैक्शन करने के लिए यूपीआई के जरिए कस्टमर ऑथराईजेशन किया जाएगा. नेशनल फाइनैंशियल स्वीच एटीएम नेटवर्क का सेटलमेंट करने के लिए इस्तेमाल किया जाएगा. साथ कार्डलेस कैश विड्रॉल करने के लिए कोई प्रोसेसिंग फीस नहीं देना होगा.   

नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑइ इंडिया (NPCI) को सभी बैंकों और एटीएम के साथ  Unified Payments Interface (UPI) को जोड़ने के लिए कहा गया है. कार्ड कैश विड्रॉल लिमिट वही रहेगी जो मौजूदा समय में एटीएम से रकम निकालने की लिमिट है. आरबीआई के मुताबिक अगर कोई ट्रांजैक्शन से कस्टमर को नुकसान होता है तो जो मुआवजा का मौजूदा नियम है वो ही मान्य होगा. 

इससे पहले 8 अप्रैल 2022 को मॉनिटरी पॉलिसी का ऐलान करते हुए आरबीआई ने देश के सभी बैंकों के एटीएम में UPI फैसिलिटी के जरिए कार्डलैस कैश विड्रॉल का प्रस्ताव रखा था. मौजूदा समय में कुछ ही बैंक एटीएम के जरिए कार्डलेस विड्रॉल की इजाजत देते हैं. लेकिन आरबीआई के आदेश के बाद यूपीआई का इस्तेमाल कर अब सभी बैंकों और एटीएम पर कैशलेस नगद निकासी की सुविधा प्रदान करेंगे. आरबीआई गर्वनर शक्तिकांत दास ने कहा कि ये कार्डलैस कैश विड्रॉल की सुविधा यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस या यूपीआई के जरिए दी जाएगी. आरबीआई गर्वनर ने कहा कि कार्डलैस कैश विड्रॉल फैसिलिटी के जरिए जहां ट्रांजैक्शन में आसानी होगी, डेबिट कार्ड रखने की जरुरत नहीं पड़ेगी, जिससे डेबिट कार्ड की स्किमिंग, कार्ड क्लोनिंग पर नकेल कसने में मदद मिलेगी.

  

क्लोनिंग-फ्रॉड से मिलेगी निजात 
मौजूदा समय में एटीएम के जरिए कार्डलैस कैश विड्रॉल फैसिलिटी की सुविधा कुछ ही बैंक अपने ग्राहकों को दे रहे हैं. एटीएम के माध्यम से कार्ड-रहित नकद निकासी देश के कुछ बैंकों द्वारा अपने ग्राहकों के लिए अपने खुद के एटीएम पर दे रहे हैं. नकद निकासी लेनदेन शुरू करने के लिए कार्ड की आवश्यकता के अभाव में स्किमिंग, कार्ड क्लोनिंग, डिवाइस से छेड़छाड़ जैसी धोखाधड़ी को रोकने में मदद मिलेगी. आरबीआई के बयान में कहा गया कि, सभी बैंकों और सभी एटीएम नेटवर्क/ऑपरेटरों में कार्ड-रहित नकद निकासी सुविधा को प्रोत्साहित करने के लिए, यह प्रस्तावित है कि कस्टमर ऑथराईजेशन के जरिए यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (यूपीआई) के उपयोग के माध्यम से  ऐसे लेनदेन का निपटारा एटीएम नेटवर्क के माध्यम से होगा. एनपीसीआई, एटीएम नेटवर्क और बैंकों को जल्द ही अलग-अलग निर्देश जारी किए जाएंगे. 

डेबिट एटीएम कार्ड की जरुरत नहीं 
इस सुविधा के जरिए ग्राहक अपना मोबाइल फोन का इस्तेमाल कर यूपीआई ऐप जैसे BHIM, Paytm और Googlepay के जरिए   पैसे निकाल सकेगा. यूपीआई बेस्ड एटीएम में डेबिट कार्ड स्वाईप करने की जरुरत नहीं पड़ेगी. ग्राहक को स्क्रीन पर यूजर कोड को स्कैन करना होगा और मोबाइल के जरिए कैश विड्रॉल को ऑथराईज करना होगा. जिसके बाद एटीएम से पैसे निकल आएगा. 
 
कार्डलेस कैश विड्रॉल 
कई बैंक अपने ही एटीएम पर अपने कस्टमर्स को कार्डलेस कैश विड्रॉल की इजाजत देते हैं. एचडीएफसी वेबसाइट के मुताबिक, कार्डलैस कैश विड्रॉल के जरिए 100 रुपये की छोटी राशि से लेकर 10,000 रुपये प्रति दिन और 25,000 रुपये प्रति महीने के हिसाब से आप कैश ट्रांजैक्शन कर सकते हैं. 

ये भी पढ़ें

Edible Prices To Come Down: भारत के लिए राहत की खबर, इंडोनेशिया ने पाम ऑयल एक्सपोर्ट पर बैन को वापस लेने का किया ऐलान

Rupee at All time Low: ऐतिहासिक निचले स्तर पर गिरकर बंद हुआ रुपया, 5 दिनों से गिरावट का बना रहा नया रिकॉर्ड

[ad_2]

Source link

Leave a Comment